Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of October 2019
स्वास्थ्य

जानलेवा हो सकता है हीट स्ट्रोक

Monday, June 03, 2019 12:05 PM

जयपुर। इन दिनों पड़ रही भीषण गर्मी से जनजीवन बुरी तरह त्रस्त है। इस मौसम में हीट स्ट्रोक का ज्यादा खतरा है, जो जानलेवा भी हो सकता है। इससे खासतौर से बच्चों के लिए सबसे ज्यादा सावधानी की जरूरत है। यह कहना है नवजात शिशु एवं बाल रोग विशेषज्ञ डॉ.अंशुल मित्तल का। डॉ.मित्तल के अनुसार नवजात से लेकर बढ़ती उम्र के बच्चों में तापमान कंट्रोल करने की मेकैनिज्म कम होती है।

ऐसी स्थिति में उनका शरीर तापमान को नियंत्रित नहीं कर पाता। विशेषकर ग्रीष्म ऋतु में उनको ज्यादा खतरा रहता है। अगर शरीर का तापमान क्षमता से ज्यादा बढ़ जाता है तो पसीना निकलना बंद हो जाता है। उसके बाद शरीर और गर्म हो जाता है तथा तापमान को नियंत्रित नहीं कर पाता। इसे हीट स्ट्रोक या तापघात कहते हैं। नवजात से लेकर बड़े बच्चों तक किसी को भी हो सकता है। इसे लू लगना भी कहते हैं।

हीट स्ट्रोक के लक्षण

शुरुआती दौर में शरीर का तापमान बढ़ जाना, मुंह सूख जाना, जी मिचलाना, बाद में उल्टी आना, सिर दर्द होना, शरीर की धड़कन तेज चलना, श्वास लेने में तकलीफ होना, आंखों में जलन होना, थकान महसूस करना, बेहोशी आना प्रमुख लक्षण हैं।

बचाव ही उपाय
अगर आप घर पर ही हैं तो हीट स्ट्रोक नीचे लाने के लिए बच्चे को पानी पिलाए और शरीर को कपड़े से गीला करते रहे। कमरे का वातावरण ठंडा रखें और बच्चे को कम कपड़े या सूती कपड़ा पहनाए। ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ और फलों के रसों का सेवन करें। नींबू और नारियल पानी हीट स्ट्रोक से बचाव कर सकते हैं। बाहर निकलना है तो सिर ढक कर रखें। दोपहर 12 से अपराह 4 के बीच आउटडोर एक्टिविटीज ना करें।