Dainik Navajyoti Logo
Thursday 20th of June 2019
खास खबरें

'डांसिंग क्वीन' के नाम से मशहूर हरीश के जापान में हैं हजारों शिष्य

Monday, June 03, 2019 10:45 AM
डांसिंग क्वीन हरीश (फाइल फोटो)

जोधपुर। जिले के बिलाड़ा थाना क्षेत्र में कापरड़ा गांव के समीप रविवार सुबह एक टवेरा कार और खड़े ट्रक में भीषण भिड़ंत हो गई। इस हादसे में विश्व प्रसिद्ध लोक कलाकार हरीश सहित चार लोगों की मौत हो गई, जबकि पांच अन्य गंभीर रूर से घायल हो गए। डांसिंग क्वीन के नाम से विख्यात हरीश अपनी टीम के सात सदस्यों के साथ जैसलमेर से जयपुर जा रहे थे। हादसा इतना भयानक था कि कार पूरी तरह से बिखर गई। कार में सवार लोग इसके अंदर ही फंसे रह गए। क्षेत्र के लोगों और पुलिस ने उन्हें बाहर निकाला तब तक चार लोगों की मौत हो गई।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने डांसर हरीश की आकस्मिक मौत पर दुख व्यक्त करते हुए उनके निधन को लोक कला क्षेत्र में बड़ी क्षति बताया। पुलिस ने बताया, कि जैसलमेर निवासी लोक कलाकार हरीश कुमार उर्फ डांसिंग क्वीन हरीश और उनके साथी रविवार सुबह कार से जा रहे थे। तब करीब पौने छह बजे कापरड़ा गांव के पास अचानक उनकी टवेरा कार अनियंत्रित होकर खड़े ट्रक से टकरा गई। हादसे में हरीश के साथ ही उनके साथी जैसलमेर निवासी रविंद्र उर्फ बंटी व लतीफ खान और मंडली बाड़मेर निवासी भीखे खान की मौत हो गई।

तेज रफ्तार के साथ चल रही कार हादसे में पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। कार में सवार लोग इसके अंदर ही फंसे रह गए। आसपास के लोगों और राहगीरों ने उन्हें बाहर निकाला। तब तक चार लोगों की मौत हो गई। इसके अलावा पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। सभी घायलों का अस्पताल में इलाज चल रहा है। पुलिस ने कार्रवाई के बाद सभी शव परिजनों को सौंप दिए है।

शोक की लहर
डांसर क्वीन हरीश के निधन से लोक कलाकारों व जैसलमेर में शोक की लहर छा गई। बताया गया, है कि हरीश का जन्म जैसलमेर जिले में रहने वाले एक गरीब परिवार में हुआ था। करीब 38 साल के क्वीन हरीश के पिता का भी कम उम्र में ही निधन हो गया था। क्वीन हरीश दुनिया के करीब 40 से 50 देशों में अपने शो कर चुके हैं। उन्होंने जापान और कोरिया में सबसे ज्यादा शो किए। क्वीन हरीश के परिवार में पत्नी, बहन और दो बच्चे है। डांस शो के अलावा हरीश ने बॉलीवुड मूवी और कई टीवी शो में भी काम किया। लड़का होकर उन्होंने लड़की के रूप डांस किया, जिसे हर किसी ने पसंद किया। हरीश को गरीबी के कारण अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ी थी। पढ़ाई छोड़ने के बाद उन्होंने एक पोस्ट आॅफिस में भी काम किया लेकिन इस दौरान उन्होंने अपने डांस के शौक को कभी नहीं छोड़ा।

विदेशों में भी हैं हरीश के प्रशंसक

देश-विदेश से बड़ी संख्या में पर्यटक राजस्थान की लोक कला संस्कृति को समर्पित हरीश से डांस सीखने जैसलमेर आते रहे हैं। लोकनृत्य के कोरियोग्राफर के रूप में हरीश ने अलग पहचान कायम की। अकेले जापान में ही उनके दो हजार से अधिक शिष्य है। हरीश स्वयं साल में एक बार जापान अवश्य जाते थे। वहां कई शहरों में शिविर लगाकर वे जापानी लोगों को राजस्थानी लोक नृत्य सिखाते थे। हरीश राजस्थानी नृत्य में चकरी, भवाई, तराजू, तेरह ताली, घूमर, चरी, कालबेलिया नृत्य पर प्रस्तुति देते थे। करीब साठ देशों में हरीश अपने नृत्य का जलवा बिखेर चुके थे। इसके लिए उन्हें अंतरराष्ट्रीय  स्तर पर कई सम्मान मिल चुके थे।


सीएम ने ट्वीट किया
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ख्यातनाम डांसर क्वीन हरीश के निधन पर ट्वीट कर संवेदना प्रकट की है। गहलोत ने कहा है कि हरीश सहित चार लोगों की मौत दुखद है। उनके निधन से कला क्षेत्र में बड़ी क्षति हुई है। हरीश ने विशेष शैली में नृत्य कला को एक अलग पहचान दी। परिजनों को दु:ख की घड़ी में हिम्मत देने की कामना करता हूं। उप मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने जोधपुर के बिलाड़ा में सड़क दुर्घटना में ख्यातनाम डांसर क्वीन हरीश सहित चार लोक कलाकारों की मृत्यु पर शोक जताया है।

पायलट ने ट्विट कर कहा है कि जोधपुर के बिलाड़ा के पास हुए सड़क हादसे में जैसलमेर के अन्तरराष्ट्रीय डांस गुरु हरीश सहित चार लोक कलाकारों की मृत्यु से मैं आहत हूं। परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं। ईश्वर दिवंगत आत्माओं को शांति और घायलों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ दे।

विधायक रूपाराम धनदेव और जिला प्रमुख अंजना मेघवाल ने भी शोक जताया है। जैसलमेर कलेक्टर नमित मेहता ने भी इसे बड़ी क्षति बताया है।