Dainik Navajyoti Logo
Thursday 22nd of August 2019
खास खबरें

जयपुर के यूथ को लेनी चाहिए इन दोस्तों से सीख, जो घायलों को बचाने में जुट गए

Tuesday, August 13, 2019 11:20 AM
घायलों को अस्पताल पहुंचाने वाले पूजा और राहुल।

जयपुर। राजधानी के त्रिमूर्ति सर्किल पर हादसे का शिकार हुए बाइक सवार युवकों को बचाने के लिए राहुल और पूजा के साथ उसके दो दोस्तों ने पूरी कोशिश की। घायलों को इलाज के लिए सही समय पर एसएमएस अस्पताल पहुंचाया। इस दौरान घायलों के परिजनों को भी सूचना दी।

राहुल का कहना है कि यदि एसएमएस अस्पताल में सही समय पर इलाज मिल जाता तो वैभव को बचाया जा सकता था। उसके सिर पर काफी चोटें आई थी। बाइक सवार प्रज्जवल और वैभव ने हेलमेट नहीं पहन रखा था। साथ ही बाइक की रफ्तार भी तेज थी। हादसे में घायल हुए युवकों को बचाने वालों से दैनिक नवज्योति ने बातचीत कर पूरे हादसे की जानकारी ली। 

पूजा बैरवा मूल रूप से गीजगढ़ सिकंदरा दौसा हाल राजापार्क और उसके फ्रेंड राहुल सोनी मूल रूप से सेफाना हनुमानगढ़ हाल राजापार्क के हैं। पूजा और राहुल सोनी ने बताया कि उनकी दोस्त सी स्कीम निवासी टिमी का बर्थडे था। अचानक वहां पहुंचकर उसको सरप्राइज पार्टी देना चाहते थे। इसके लिए पूजा और राहुल एक बाइक पर और इनके दो दोस्त दूसरी बाइक से सी स्कीम के लिए रवाना हुए थे। वे त्रिमूर्ति सर्किल पर पहुंचे ही थे कि वहां एक कार आगे से क्षतिग्रस्त हुई बीच रोड पर खड़ी थी। कार को देखकर वे रुक गए और देखा तो कार में आगे की सीट पर दो युवक बैठे थे और कार के बैलून खुले थे। दोनों युवक बाहर निकले और एक साइड में खड़े हो गए और कुछ देर बाद भाग गए।

पूजा ने बताया कि मैंने और राहुल ने आगे जाकर देखा तो एक बाइक रोड पर पड़ी थी और दो युवक गंभीर हालत में सड़क पर उलटे पड़े थे। वैभव के सिर पर गंभीर चोट लगी थी। इस दौरान वहां से गुजर रही किसी निजी अस्पताल की एंबुलेंस को रोककर उसे एसएमस अस्पताल पहुंचाया गया। इसी दौरान प्रज्जवल को ऑटो से अस्पताल पहुंचाया।

मुश्किल से मिले परिजन के नंबर
पूजा ने बताया कि दोनों घायलों के बारे में जानकारी जुटाने के लिए इनके आईडी कार्ड तलाशे गए। इससे उनके निवास का पता लग गया। मौके से मिला प्रज्जवल का मोबाइल डिस्चार्ज हो चुका था। वैभव के पास मिला मोबाइल लॉक था। उसके लॉक को खोलने के लिए उसके अंगूठे से प्रयास किया गया। किसी तरह लॉक खुला और उसके घर पर परिजनों को फोन किया गया। उसके बाद दोनों युवकों के परिजन अस्पताल पहुंचे।

कई लोग वीडियो बनाते रहे
राहुल ने बताया कि हादसे की जगह पर कई लोग मौजूद थे। हमने वहां पहुंचकर घायलों को बचाना शुरू किया तो कुछ लोग मदद को आगे आए। जबकि कई लोग सिर्फ वीडियो बनाने में ही बिजी थे। वहीं ऑटो चालक ने खुद कहा कि घायल को मेरे ऑटो में बिठाओ अस्पताल लेकर चलता हूं।

पुलिसकर्मियों की आंखों में भी आए आंसू
पूजा ने बताया कि हादसा इतना भीषण था कि वैभव गंभीर रूप से घायल हो गया था। सूचना पर अस्पताल में पहुंचे पुलिसकर्मियों ने जब उसे देखा तो उनकी आंखों में भी आंसू आ गए। परिजनों का सपना था कि बच्चे दोनों पढ़ लिखकर अपने परिवार का नाम रोशन करें।