Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of October 2019
जयपुर

जेडीए की कार्रवाई का विरोध सड़कों पर उतरे बिल्डर्स

Friday, September 13, 2019 10:15 AM
प्रदर्शन करते हुए बिल्डर्स।

जयपुर। शहर में अवैध रूप से हो रहे निर्माणों को लेकर जयपुर विकास प्राधिकरण की सख्ती के बाद दो एवं तीन मंजिला फ्लैट्स बनाने वाले पृथ्वीराज नगर क्षेत्र के बिल्डिर्स गुरुवार को सड़कों पर उतर आए और जेडीए भवन पर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के बाद बिल्डर्स के प्रतिनिधि मंडल ने जेडीए आयुक्त को मांगों का ज्ञापन सौंपा। शहर की विभिन्न कॉलोनियों में छोटे- छोटे भूखंड खरीद कर दो से तीन मंजिला तक फ्लैट बनाने वालों पर की जा रही जेडीए की कार्रवाई के विरोध में शहर के सैंकड़ों बिल्डर्स आंबेडकर सर्किल पर एकत्रित हुए और वहां जेडीए भवन पर रैली निकाली। इस दौरान बिल्डर्स बैनर एवं तख्तियों के साथ जेडीए की कार्रवाई का विरोध करते हुए नारेबाजी करते हुए जेडीए भवन पहुंचे। जेडीए भवन पर जमकर नारेबाजी एवं प्रदर्शन करने के लिए प्रतिनिधि मंडल मांगों के ज्ञापन लेकर जेडीसी टी. रविकांत ने मिले। इस दौरान जेडीसी ने बिल्डर्स को कहा कि नियमों के विपरीत निर्माणों पर कार्रवाई की जाएगी। बैठक में जयपुर आवास निर्माण बिल्डर्स महासंघ के प्रतिनिधियों ने अपनी समस्या बताते हुए विश्वास दिलाया कि जो फ्लैट अवैध रूप से एवं नियम के विपरीत निर्मित है। उन आवासों के अवैध भाग को बिल्डर्स स्वयं के स्तर पर ध्वस्त करवाएंगे तथा भविष्य में नियमों के अनुसार ही फ्लैट्स का निर्माण करवाया जाएगा।

उद्देश्य किसी को परेशान करना नहीं
जेडीसी रविकांत ने जयपुर आवास निर्माण बिल्डर्स महासंघ के प्रतिनिधियों को कहा कि सरकार एवं जेडीए का उद्ेदश्य अनावश्यक रूप से किसी को परेशान करना नहीं है, बल्कि नियमों की पालना सुनिश्चित करवाना है। उन्होंने प्रतिनिधि मंडल द्वारा भवन विनियमों को व्यावहारिक एवं सरलीकरण करने की मांग पर जयपुर आवास निर्माण बिल्डर्स महासंघ के दो सदस्यों को मुख्य नगर नियोजक, नगर नियोजन विभाग के साथ बैठक आयोजित करने के निर्देश दिए, जिससे आवश्यक प्रस्ताव तैयार कर सरकार को भिजवाए जा सकें। बैठक में प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों ने बताया कि कुछ व्यक्ति पत्रकार बनकर फ्लैट निर्माण करने वालों से अवैध तरीके से वसूली करते हैं। इस पर जेडीसी ने प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों को कहा कि अवैध तरीके से वसूली करने वाले ऐसे लोगों के खिलाफ  पुलिस थानों में मुकदमा दर्ज कराएं।