Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of October 2019
उदयपुर

झपटमारों के खिलाफ राजस्थान में बनेगा एंटी स्नैचिंग कानून

Tuesday, October 08, 2019 23:10 PM
logo

उदयपुर। पलक झपकते ही महिलाओं के गले से चेन, हाथों से मोबाइल फोन झपट छूमंतर होने वाले बदमाशों पर नकेल के लिए गृह विभाग ने आईपीसी की धारा में संशोधन व एंटी स्नैचिंग कानून बनाने का प्रस्ताव सरकार के पास भेजा है। प्रदेश सहित लेकसिटी में भी आए दिन महिलाओं, वृद्धाओं और युवतियों के साथ घटनाएं इस कदर बढ़ चुकी हैं कि वहां के लोगों का सड़कों पर निकलना मुश्किल हो गया है। इन अपराधों को रोकने के लिए पुलिस ने राजस्थान सरकार को आईपीसी की धारा 379 में संशोधन पारित करने का प्रस्ताव भेजा है। इसके पीछे मकसद है कि अपराधियों को कड़ी सजा दिलाई जा सके।
अगर सरकार इस संशोधन को पारित कर देती है तो स्नैचिंग की वारदात के आरोपी नी पुलिस आईपीसी की धारा 379-ए व 379-बी के तहत केस दर्ज कर सकेगी। धारा 379-ए में दस साल की सजा व 25 हजार रुपए जुर्माने का प्रावधान होगा और 379-बी में 14 साल तक की सजा व 25 हजार रुपए के जुर्माने का प्रावधान होगा। राजस्थान पुलिस अभी तक धारा 379 व 382 में केस दर्ज करती है। इन धाराओं के तहत केवल 3 से 5 वर्ष की सजा का प्रावधान है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि आईपीसी में संशोधन के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजा है। यह कानून पारित होने के बाद राजस्थान, हरियाणा के बाद दूसरा राज्य होगा जहां एंटी स्नैचिंग कानून लागू होगा। पुलिस के आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में हर रोज बाइक सवार बदमाश 20 से 25 राहगीरों के मोबाइल छीन ले जाते हैं।