Dainik Navajyoti Logo
Sunday 15th of September 2019
राजस्थान

मुख्यमंत्री गहलोत ने लॉन्च किया उद्योग मित्र पोर्टल, उद्योग लगाना होगा आसान

Wednesday, June 12, 2019 13:30 PM
प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

जयपुर। राजस्थान में अब नए उद्योग लगाना आसान होगा। उद्योग के लिए मित्र पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करते ही एक्नॉलिजमेंट सर्टिफिकेट मिल जाएगा। इसके बाद तीन साल तक सभी विभागों के निरीक्षण से भी निजात मिलेगी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को सीएमओ में राज उद्योग मित्र पोर्टल लॉन्च किया।

पोर्टल लॉन्चिंग कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीएओ में प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि प्रदेश में  उद्योग लगाने की  प्रक्रिया का  सरलीकरण करते हुए  4 माह पहले ही हम यह अध्यादेश लेकर आए थे, उसके बाद इसके नियम तैयार किए गए, लेकिन  लोकसभा चुनाव की आचार संहिता के चलते इसे धरातल पर नहीं लाया जा सका, इसमें देरी हुई है। इस अध्यादेश को अब विधानसभा के इसी सत्र में रखा जाएगा।

गहलोत ने राज उद्योग मित्र पोर्टल को एक क्रांतिकारी कदम बताते हुए कहा कि राजस्थान ऐसा पहला राज्य है जहां यह कानून लागू हो रहा है। गहलोत ने कहा कि इस समय देश के अंदर जो हालात है, उसकी मुझे चिंता है। गहलोत ने भाजपा  पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने बेरोजगारी के आकंड़ों को छुपाया, जबकि इन्हीं से विभागों की योजना तैयार होती है, न केवल इनको छुपाया गया बल्कि झूठ बोला गया, सच्चाई को स्वीकार करना चाहिए।

इस दौरान गहलोत ने बेरोजगारी के आंकडों को लेकर भी निशाना साधा। सीएम ने कहा कि युवा पीढ़ी को  उद्योग स्थापित करने के लिए सुविधा देने की सोच होनी चाहिए सरकार कोई भी हो, क्योंकि रोजगार आज बड़ी चुनौती है इसी को देखते हुए राज्य में यह पहल शुरू की गई है कि निवेश का माहौल बने और ज्यादा से ज्यादा उद्यमी यहां आए और युवा वर्ग अपने उद्योग स्थापित करने की ओर आगे आए ।उन्होंने कहा कि सरकार नई उद्योग पॉलिसी लाने पर विचार कर रही है। इसी को लेकर हम प्रयास कर रहे हैं। एक्सपर्ट पावर काउंसिल बना रहे हैं, किसानों के लिए 10 हेक्टर तक एग्रो इंडस्ट्री लगाने की हम पहले ही लैंड यूज चेंज में छूट प्रदान कर चुके हैं, साथ ही बंजर भूमि को ज्यादा से ज्यादा उपयोग में लिया जा सके, इस दिशा में भी सरकार कार्य कर रही है। उन्होंने पेयजल की स्थिति को लेकर कहा कि पेयजल प्रदेश में चुनौतीपूर्ण है। सरकार में आते ही हमने हैंडपंप मरमत नए ट्यूबवेल लगाने के निर्देश दिए। इस दिशा में काम किया गया, इसके परिणाम भी ठीक आए हैं, कई शहरों में पानी की काफी हद तक सहूलियत भी हुई है ।जयपुर शहर में भी इसके कुछ परिणाम सामने आए हैं।

पूर्ववर्ती सरकार ने किया था उद्योगपतियों का स्नेहमिलन
पूर्वर्ती सरकार के राजस्थान रिसर्जेन्ट सम्मेलन को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में गहलोत ने कटाक्ष करते हुए कहा कि पूर्ववर्ती सरकार का राजस्थान रिसर्जेन्ट एक मात्र उद्योगपतियों का स्नेह मिलन था, उसमें एक तरह से तमाशा किया गया जिसको सब ने देखा, निवेश कुछ नहीं हुआ। नरेंद्र मोदी ने गुजरात में भी रिसर्जेन्ट समिट कराया, जो केवल दिखावा था। दस परसेंट भी निवेश नहीं हुआ और केवल ढिंढोरा पीटा गया। गहलोत ने रिसर्जेंट राजस्थान को पूरी तरह से फेल बताते हुए इसे सिर्फ दिखावा करार देते हुए कहा कि पिछले पांच साल में कोई निवेश नहीं आया।

उद्योगों को राहत देने वाला  कानून
कार्यक्रम में उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि उद्योगों को ज्यादा अवसर देने के लिए यह कानून लेकर आये हैं। यह पोर्टल आधार से लिंक है।