Dainik Navajyoti Logo
Thursday 22nd of August 2019
राजस्थान

जयपुर के ईदगाह इलाके में तनाव, बसों पर पथराव, कई वाहन फूंके

Tuesday, August 13, 2019 10:05 AM
ईदगाह क्षेत्र में फैले तनाव के बाद मौके पर मौजूद पुलिस।

जयपुर। राजधानी के गलता गेट थाना इलाके में सोमवार रात करीब पौने दस बजे बवाल हो गया। कुछ लोगों ने गलता गेट से ईदगाह के बीच जाने वाली बसों पर पथराव शुरू कर दिया और रोड पर खड़े वाहनों में आग लगा दी। अचानक हुए पथराव में कई लोगों के चोटें आई हैं। इसमें कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने अतिरिक्त जाब्ते के साथ आंसू गैस के गोले दागे और बल प्रयोग कर भीड़ को खदेड़ना शुरू कर दिया। पत्थरबाजी के दौरान एक समुदाय विशेष के लोग हाथों में डंडे सरिए लेकर गलियों में घूमने लगे। यह देख पुलिया नंबर-2 के पास वन विहार कॉलोनी स्थित अमरेश्वर मंदिर में लोग घुस गए जो देर रात तक मंदिर से सुरक्षा के बीच निकाले गए।

सिपाही बोला- अचानक हुआ हमला
गलता गेट थाने की पीसीआर में तैनात सिपाही रामप्रसाद ने बताया कि उसकी चेतक में ड्यूटी थी। अचानक माहौल बिगड़ गया। इस दौरान हम यातायात डायवर्ट कर रहे थे। अचानक हमारे ऊपर हमला कर दिया गया। हमला करने वालों की भीड़ में करीब 100 लोग थे।

अलर्ट के बावजूद बिगड़ा माहौल
जानकारी में आया कि इंटेलीजेंस ने पहले ही अलर्ट जारी कर दिया था। रविवार को कावड़ यात्रा के बाद भी विवाद होने की चेतावनी दी गई थी, लेकिन फिर भी जयपुर पुलिस ने लापरवाही बरती और इसका प्रभाव पथराव के रूप में सामने आया है।

कावड़ यात्रा से शुरू हुआ विवाद
चार दरवाजा पर रविवार को कावड़ यात्रा के दौरान हल्का विवाद हुआ था। उसके बाद सोमवार रात को यह विवाद फिर से कावड़ यात्रा पर ही हुआ है। थोड़ी सी बात को लेकर बसों में तोड़फोड़ की गई और वाहनों में आग लगाई गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने लोगों को काबू करने का प्रयास किया है। मौके पर अतिरिक्त कमिश्नर समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे और स्थिति पर नियंत्रण पाने की कोशिश जारी रही।

अचानक भीड़ आई और पथराव शुरू हो गया
ऐसा लगता है कि शहर के गलता गेट से लेकर ईदगाह तक अशांति फैलाने वाले लोगों ने पहले ही तय कर लिया था कि माहौल बिगाड़ना है। देर रात एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें कुछ युवक भागते हुए पत्थर फेंक रहे हैं। इसके अलावा कई युवकों ने दर्शन कर वापस लौट रहे परिवार के साथ मारपीट कर रुपए और मोबाइल छीन लिए। प्रताप नगर निवासी विनोद शर्मा ने बताया कि वह परिवार के साथ बंगाली बाबा मंदिर के दर्शन कर वापस आ रहे थे। ईदगाह चौराहे के पास भीड़ ने इन्हें रोक लिया, पहले युवकों ने नाम पूछा और फिर मारपीट शुरू कर दी। इसके बाद मोबाइल, पर्स और बैग छीन लिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया।
 
एसएमएस में कहा- पहले रसीद बनवाओ
गंभीर हालत में घायल होकर एसएमएस पहुंचे विनोद शर्मा का इलाज करने से पहले वहां मौजूद स्टाफ ने कहा कि पहले रुपए देकर रसीद कटवाओ तब उपचार शुरू होगा। विनोद रसीद कटवाने गया उसके बाद सीटी स्कैन हुई और इलाज शुरू किया।

कमिश्नर और नवज्योति को दिया धन्यवाद
सुमित ने कुछ लोगों के साथ अमरेश्वर मंदिर में फंसे होने की सूचना दैनिक नवज्योति संवाददाता को दी। सुमित ने बताया कि कावड़ यात्रा का प्रसादी वितरण कार्यक्रम चल रहा था। इसके लिए गलता गेट थाना पुलिस से परमीशन भी ली गई थी। पुलिस ने अपनी ड्यूटी पूरी तरह निभाई, लेकिन शाम को लोग डंडों और सरियों से लैस दिखे तो हम सभी मंदिर में ही बैठ गए। इस पर दैनिक नवज्योति संवाददाता ने पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव को लोगों के फंसे होने की जानकारी दी तो उन्होंने तुरंत पुलिस जाब्ता भेजकर उनको सुरक्षित घर पहुंचाया। इस पर लोगों ने पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव और दैनिक नवज्योति को धन्यवाद दिया।

पता पूछा तो गाड़ी तोड़ कर मारपीट की
मनोहरपुर से स्कॉर्पियो गाड़ी में सवार होकर एक परिवार सांगानेर की ओर जा रहा था। महिला रेशमा ने बताया कि ईदगाह के पास उन्होंने कुछ युवकों से सांगानेर जाने के लिए रास्ता पूछा तो उन्होंने मारपीट शुरू कर दी और गाड़ी तोड़ दी। वहीं शास्त्री नगर निवासी समुदाय विशेष के तीन युवक घूमते हुए चाय पीने राजापार्क पहुंच गए। इस दौरान ये विवाद हो गया तो वहां लोगों ने इन तीनों युवकों को पीट दिया। विवाद में घायल होने के बाद एसएमएस में रवि सैनी, पुलकित शर्मा, सोनू राजपूत, अजय, दिनेश, संजय और मोनू राजपूत इलाज के लिए पहुंचे।