Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 18th of September 2019
राजस्थान

अब अधिक होगी पेयजल सप्लाई

Thursday, August 22, 2019 10:10 AM

जयपुर। बीसलपुर बांध के भरने के बाद जयपुर, अजमेर और टोंक जिलों में जनता को रोजाना ज्यादा मात्रा में पेयजल की सप्लाई की जाएगी। इन जिलों में लोगों को अधिक मात्रा और ज्यादा अवधि तक पानी की सप्लाई के लिए जलदाय विभाग में उच्च स्तर पर निर्णय लिया गया है। इसके तहत पानी की मात्रा को धीरे-धीरे बढ़ाना शुरु कर दिया गया है। बांध में भरपूर पानी की आवक के बाद जयपुर शहर में की जा रही सप्लाई कटौती को भी धीरे धीरे समाप्त कर दिया जाएगा।

इसके लिए तुरंत प्रभाव से चारदीवारी क्षेत्र में वाटर सप्लाई की अवधि 45 मिनट से बढ़ाकर 60 मिनट की जाएगी। वहीं शेष जयपुर में भी जहां जहां 40 से 45 मिनट सप्लाई हो रही है वहां भी धीरे धीरे सप्लाई का समय 60 मिनट किया जाएगा। प्रमुख शासन सचिव संदीप वर्मा ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ शासन सचिवालय में हुई समीक्षा बैठक में यह निर्णय लिया है।

बैठक में अधिकारियों को वर्मा ने निर्देश दिए कि जयपुर शहर, अजमेर और टोंक में वाटर सप्लाई को इस प्रकार बढ़ाया जाए जिससे कि बिना किसी दिक्कत के सिस्टम स्टेबलाईज हो जाए और आगामी एक सितम्बर से तय किए गए कार्यक्रम के अनुसार तीनों जिलों के लोागों को बढ़ी हुई मात्रा में अधिक अवधि तक पानी की सप्लाई सुनिश्चित हो सकें।

ऐसे बढ़ेगी सप्लाई
बैठक में निर्णय लिया गया कि बीसलपुर से जयपुर शहर में वर्तमान में प्रतिदिन सप्लाई होने वाले 330 एमएलडी पानी को बढ़ाकर 360 एमएलडी किया जाएगा। इसी प्रकार अजमेर के लिए अब रोजाना 250 एमएलडी के स्थान पर 315 एमएलडी पानी की सप्लाई की जाएगी। इससे अजमेर में वर्तमान में 72 घंटे में पेयजल सप्लाई की अवधि घटकर 48 घंटे रह जाएगी। टोंक जिले को अब दैनिक आधार पर 45 एमएलडी के स्थान पर 53 एमएलडी पानी मिलेगा जबकि जयपुर जिले के ग्रामीण क्षेत्र को हर रोज 42 एमएलडी की जगह 54 एमएलडी पानी बीसलपुर से मिलेगा।

मावठे पर भी हुई चर्चा
प्रमुख शासन सचिव ने अतिरिक्त मुख्य अभियंता को निर्देश दिए कि विभाग के स्तर से मावठे में पानी की आवक की राह में जो रूकावटें हैं, उनका भी पता लगाएं। उन्होंने इस बारे में पर्यटन विभाग के अधिकारियों से भी चर्चा करने के निर्देश दिए गए।

होगा कार्यालयों का पुनर्गठन
प्रमुख शासन सचिव ने बैठक के दौरान बीकानेर, अजमेर और नावां में जलदाय विभाग के कार्यालयों के पुनर्गठन के प्रस्तावों पर भी चर्चा की। जो काफी समय से लम्बित पड़े है। उन्होंने मुख्य अभियंता प्रशासन को निर्देश दिए कि इस सम्बंध में एक सप्ताह की अवधि में प्रस्ताव तैयार कर प्रस्तुत करें।