Dainik Navajyoti Logo
Thursday 17th of October 2019
अन्य खेल

यूएस ओपन टेनिस टूर्नामेंट, बियांका बनी चैंपियन

Monday, September 09, 2019 10:05 AM
बियांका आंद्रेस्कू

न्यूयार्क। अमेरिका की दिग्गज खिलाड़ी सेरेना विलियम्स का 24वें ग्रैंड स्लेम खिताब की बराबरी करने का सपना एक बार फिर टूट गया। कनाडा की 19 साल की बियांका आंद्रेस्कू ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए सेरेना को लगातार सेटों में शनिवार को 6-3,7-5 से हराकर पहली बार यूएस ओपन टेनिस टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया। बियांका इस तरह ग्रैंड स्लेम जीतने वाली पहली कनाडाई खिलाड़ी बन गई हैं। बियांका आंद्रेस्कू ने एक घंटे 40 मिनट में सेरेना को हराकर उनका 24वां ग्रैंड स्लेम खिताब जीतने का सपना तोड़ दिया। सेरेना को पिछले साल फाइनल में जापान की नाओमी ओसाका से यहां हार का सामना करना पड़ा था। 37 वर्षीय सेरेना ने वर्ष के तीसरे ग्रैंड स्लेम विबंलडन के फाइनल में भी जगह बनाई थी जहां उन्हे रोमानिया की सिमोना हालेप के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। सिमोना ने यह मुकाबला 6-2, 6-2 से जीता था। लगातार दूसरे ग्रैंड स्लेम के फाइनल में हार के साथ सेरेना का आॅस्ट्रेलिया की मार्गरेट कोर्ट के 24 ग्रैंड स्लेम खिताबों के रिकार्ड की बराबरी करने का इंतजार बढ़ गया था।

सेरेना का आखिरी ग्रैंड स्लेम खिताब आॅस्ट्रेलियन ओपन था। छह बार की यूएस ओपन चैंपियन सेरेना को खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा था लेकिन 19 साल की कनाडाई खिलाड़ी ने आक्रामक प्रदर्शन करते हुए सेरेना की चुनौती पर काबू पा लिया और अपना पहला ग्रैंड स्लेम खिताब जीत लिया। सेरेना का यह 33वां ग्रैंड स्लेम फाइनल था जबकि बियांका ओपन युग में यूएस ओपन के मुख्य ड्रॉ टूर्नामेंट में पदार्पण करने के बाद खिताब जीतने वाली पहली महिला बन गई हैं। बियांका ने अब तक अपने करियर में सिर्फ चार ग्रैंड स्लेम टूर्नामेंट में हिस्सा लिया है। बियांका के लिए यह उनके करियर का सबसे यादगार पल था लेकिन मैच के बाद उन्होंने स्थानीय खिलाड़ी सेरेना को हराने के लिए दर्शकों से माफी मांगी। बियांका ने कहा कि मैं जानती हूं कि आप लोग सेरेना को उनका सातवां यूएस ओपन खिताब जीतते हुए देखने आए थे। इसलिए मैं आपसे माफी मांगती हूं। अपनी हार से निराश सेरेना चैंपियन की इस बात पर मुस्कुरा उठीं और उन्होंने बियांका को खिताबी जीत के लिए बधाई दी। 19 साल की बियांका 2006 में यूएस ओपन खिताब जीतने वाली रूस की मारिया शारापोवा के बाद ग्रैंड स्लेम जीतने वाली सबसे युवा खिलाड़ी बन गई हैं।