Dainik Navajyoti Logo
Wednesday 18th of September 2019
बिज़नेस

मंदी के चलते घटी पारले कंपनी की बिक्री, 10 हजार कर्मचारियों की छंटनी के आसार

Wednesday, August 21, 2019 17:35 PM
पारले बिस्किट(फाइल फोटो)

देश की सबसे बड़ी बिस्किट निर्माता कंपनी पारले मंदी की वजह से 10 हजार कर्मचारियों को निकाल सकती है। कंपनी के कैटेग्री हेड मयंक शाह ने बुधवार को बयान में कहा कि बिस्किट की बिक्री खासकर ग्रामीण इलाकों में घटने की वजह से कंपनी प्रोडक्शन में कटौती कर सकती है। ऐसा होने पर कर्मचारियों की छंटनी के आसार हैं।

शाह ने कहा कि 2017 में जीएसटी लागू होने के बाद से पारले-जी जैसे मशहूर बिस्किट की बिक्री 7-8% घट गई है। 5 रुपए वाले पैक पर भी काफी ज्यादा जीएसटी लग रहा है। इस वजह से कंपनी को सभी पैक में बिस्किट की संख्या घटानी पड़ी। इससे ग्रामीण इलाकों में मांग घट गई। पारले का आधे से ज्यादा रेवेन्यू वहीं से आता है। टैक्स को लेकर पिछले साल सरकार से बात भी की थी। बिस्किट पर 18 फीसदी जीएसटी लग रहा है।

शाह का कहना है कि कीमतों को लेकर ग्राहक बहुत ज्यादा सेंसेटिव हैं। वे देखते हैं कि उन्हें कितने बिस्किट मिल रहे हैं। बिक्री के हालात काफी खराब हैं। सरकार जल्द दखल नहीं देगी तो हमें मजबूरन कर्मचारियों की संख्या घटानी पड़ेगी।

भारत में पारले जी की स्थापना 1929 में हुई थी, जिसमें देशभर में करीब एक लाख कर्मचारी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से कार्यरत हैं। 90 साल पुरानी कंपनी के 10 प्लांट खुद के और 125 कॉन्ट्रैक्ट वाले हैं। पारले मंदी से परेशान अकेली कंपनी नहीं है। इसकी प्रमुख कॉम्पिटीटर ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज के एमडी वरुण बेरी ने भी पिछले दिनों कहा था कि लोग 5 रुपए की वस्तु खरीदने से पहले भी दो बार सोच रहे हैं।