Dainik Navajyoti Logo
Thursday 20th of June 2019
खेल

युवराज हमेशा सच्चे चैंपियन रहे: सचिन तेंदुलकर

Tuesday, June 11, 2019 12:05 PM
अपने परिवार के साथ युवराज सिंह

नई दिल्ली। भारत के सर्वश्रेष्ठ आलराउंडरों में शुमार युवराज सिंह को भारतीय क्रिकेट में सिक्सर किंग और कैंसर विजेता के रूप में याद किया जाएगा। 37 वर्षीय युवराज ने मुंबई में सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी। बाएं हाथ के बल्लेबाज युवराज अपनी जबरदस्त बल्लेबाजी के लिए पूरी दुनिया में विख्यात थे और भारत को 2011 में 28 साल बाद विश्व चैंपियन बनाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही थी जिसके लिए उन्हें मैन आॅफ द टूर्नामेंट का खिताब मिला था।

भारत को विश्व चैंपियन बनाने के बाद उन्हें अपने कैंसर से पीड़ित होने का पता चला। उन्हें पता चला कि उनके दोनों दो फेफड़ों के बीच में ट्यूमर है। लेकिन उन्होंने कैंसर जैसी भयानक बीमारी पर विजय प्राप्त कर क्रिकेट के मैदान पर वापसी की थी। हालांकि कैंसर से वापसी करने के बाद युवराज पहले जैसे खिलाड़ी नहीं रहे लेकिन उनकी संघर्ष क्षमता, साहस और जज्बे का सभी ने लोहा माना। विश्व कप के दौरान युवराज ने खून की उल्टियां तक की थीं लेकिन उन्होंने किसी को इस बात का पता नहीं चलने दिया।

युवराज ने ठुकराया था विदाई मैच का प्रस्ताव
मुंबई। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का सोमवार को ऐलान करने वाले धुरंधर आॅलराउंडर युवराज सिंह ने विदाई मैच का प्रस्ताव ठुकरा दिया था। युवराज ने संन्यास की घोषणा करते हुए कई सवालों के जवाब दिए। यह पूछने पर कि क्या वह कोई विदाई मैच चाहते थे, युवराज ने कहा कि मैंने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड में किसी से नहीं कहा था कि मैं अपना आखिरी मैच खेलना चाहता हूं। यदि मेरे अंदर क्षमता होगी तो मैं उसी के दम पर मैदान में जाऊंगा। मैं इस अंदाज में क्रिकेट नहीं खेल सकता कि मुझे कोई विदाई मैच चाहिए। उन्होंने कहा कि मुझसे कहा गया था कि यदि मैं यो-यो टेस्ट पास नहीं कर पाता हूं तो मैं एक विदाई मैच खेल सकता हूं। मैंने तब कहा था कि मैं कोई विदाई मैच नहीं खेलना चाहता।

मेरी मां मेरी ताकत हैं : युवराज सिंह
मुंबई। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से सोमवार को संन्यास का ऐलान करने वाले दिग्गज आॅलराउंडर युवराज सिंह ने कहा कि उनकी मां हमेशा उनकी ताकत रही हैं और उनसे उन्हें प्रेरणा मिलती है। युवराज ने अपने संन्यास का ऐलान करते हुए कहा कि मैं अपने परिवार और खासतौर पर अपनी मां को धन्यवाद देना चाहता हूं जो आज यहां मेरे साथ मौजूद हैं। मेरी प्यारी मां हमेशा मेरी ताकत रही हैं और मैं यह कहना चाहूंगा कि उन्होंने मुझे दो बार जन्म दिया है। कैंसर जैसी बीमारी के समय वह हमेशा मेरे साथ रहीं और मुझमें जीवन की ललक पैदा करती रहीं। आॅलराउंडर ने साथ ही कहा कि मैं अपनी पत्नी का भी शुक्रगुजार हूं जो मुश्किल समय में मेरा हौसला बढ़ाती रहीं।

युवराज हमेशा सच्चे चैंपियन रहे : तेंदुलकर
 भारत रत्न सचिन तेंदुलकर, कप्तान विराट कोहली, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और अन्य पूर्व तथा मौजूदा भारतीय खिलाड़ियों ने संन्यास का ऐलान कर चुके क्रिकेटर युवराज सिंह को अपनी शुभकामनाएं दी हैं।

सचिन ने ट््वीट कर कहा कि आपका करियर काफी शानदार रहा युवी। जब भी टीम को जरुरत थी आपने हमेशा सच्चे चैंपियन की तरह टीम की मदद की है। अपने करियर में और मैदान के बाहर आपके जीवन में जो भी उतार-चढ़ाव आए उसका आपने बहादुरी से सामना किया है।